Friday, March 23, 2012


मैं अक्सर 
उलझ जाता हूँ 
खुद से ही .....
और खो देता हूँ 
दूसरों के विरोध का 
नैतिक अधिकार ....!


1 comment:

  1. वाह!!!!

    क्या खूब कहा...

    अनु

    ReplyDelete