Tuesday, July 7, 2009

एक ख़ुशी मेरे लिए भी खरीद लाओ कोई


ओढ़ लीं है हमने खामोशियों की चादर
अब मुझे सोते से ना जगाओ कोई

बिक रही है खुदाई सस्ते दामों पर बाहर
एक ख़ुशी मेरे लिए भी खरीद लाओ कोई


-कुलदीप अन्जुम

2 comments:

  1. nidhi ji
    jab khudayi bajar bik sakti hai
    to nishchit roop se khushiyan
    bhi kahridi ja sakti hai

    vaise bhi ye ek vyanga hai
    society par un logo par
    jo samjhte hain ki sab kuch kharida ja sakta hai
    dhanybad padhne ke liye

    ReplyDelete